DESK : एक हैरान कर देने वाला मामला यूपी के कानपूर से सामने आया है, जहां दफनाए जाने के दो दिन बाद एक शख्स घर लौटकर आ गया. जिसके बाद घर के लोग हैरान रह गए. जब उस शख्स ने असलीयत बताई तो घर वाले बहुत खुश हो गए.

मामला चकेरी थाना इलाके की है. जहां का रहने वाले अहमद हसन की अपनी पत्नी नगमा के साथ 2 अगस्त को झगड़ा हो गया. उसके बाद अहमद घर छोड़कर चला गया. 2 दिन तक जब वह वापस नहीं लौटा तो घरवालों ने पुलिस में कंप्लेन की. 5 अगस्त को पुलिस ने एक शव बरामद किया और घरवालों ने उसकी पहचान अहमद के रुम में की और उसका अंतिम संस्कार किया. घर में लोगों का रो-रोकर बुरा हाल हो गया.

उसके दो दिन बाद ही अहमद घर लौट आया,जिसके बाद लोग हैरान रह गए. मामला सामने आने के बाद अब पुलिस उस शख्स की पहचान करने में जुटी है, जिसे गलत समझकर दफनाया गया है. अहमद ने बताया कि ‘पत्नी के साथ झगड़ा होने के कारण मैंने घर छोड़ दिया. रास्ते में एक आदमी ने मेरी मदद की और मैंने एक कारखाने में काम किया. पैसा मिलने के बाद मैं वापस घर लौट आया. घर पहुंचने मैंने देखा कि मेरा घर बंद है, लेकिन पड़ोसियों ने मुझे पहचान लिया. उन्होंने पुलिस को फोन किया और वे मुझे पुलिस स्टेशन ले आए. घर लौटने पर मुझे पता चला कि मुझे मृत घोषित कर दिया गया. मुझे पता चला कि एक शव (मेरे भाइयों द्वारा मुझे पहचाना गया) को दफनाया गया. मैं जिंदा हूं.’वहीं अपने पति के के वापस लौटने से पत्नी बेहद खुश है.

इस मामले में कानपुर के एसएसपी ने कहा कि ‘एक महिला ने चकेरी पुलिस स्टेशन में अपने पति की गुमशुदगी दर्ज कराई थी. महिला के परिवार के सदस्यों को पुलिस द्वारा मिले एक शव की पहचान करने के लिए कहा गया था. उन्होंने शव की पहचान की और अंतिम संस्कार किया. लेकिन वह जिंदा वापस आ गया. अब हम दफन किए गए आदमी की पहचान करने के लिए विभिन्न स्थानों पर पोस्टर लगा रहे है.। मैंने एसपी वेस्ट से पुष्टि करने के लिए कहा है कि डॉक्टरों ने पोस्टमार्टम करते समय शरीर का डीएनए परीक्षण किया है या नहीं.’

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here