DESK : राजस्थान के जोधपुर के एक गांव में 8 साल पहले पाकिस्तान से आकर रह रहे परिवार के 11 लोगों की लाश मिलने से हड़कंप मच गया था. बताया जा रहा है कि बुधराम का पूरा परिवार 8 साल पहले पाकिस्तान से भारत आया था और खेती करके अपना जीवन गुजार रहा था. लेकिन रविवार के परिवार के 11 लोगों की लाश मिलने से इलाके में सनसनी फैल गई थी. वहीं परिवार का 12 वां सदस्य जिंदा बच गया था क्योंकि वह खाना खाने के बाद नील गाय भगाने खेत पर गया था और उसे नींद आ गई थी.

एक ही परिवार के 11 लोगों की मौत पर अहम जानकारी निकलकर सामने आई है. बताया जा रहा है कि परिवार की बेटी लक्ष्मी ने नहीं बल्कि 25 साल की प्रिया उर्फ प्यारी ने परिवार के सदस्यों को जहर का इंजेक्शन देकर मारा. लक्ष्मी और प्रिया ने पाकिस्तान से नर्सिंग का कोर्स किया था. पुलिस को शव के पास से जहर की शीशा और इंजेक्शन मिली है. शुरूआती जांच में पाया गया कि परिवार के सभी सदस्य को पहले नींद की गोलियां दी गई थी और इसके बाद घर के बाहर चारपाई पर सो रहे सभी सदस्यों को घसीट कर घर के अंदर लाया गया फिर सभी लोगों को चूहे मारने की दवा का इंजेक्शन दे दिया गया.

शुरुआती जांच में यह बात सामने आई है कि घर का 12 वां सदस्य इसलिए बच गया क्योंकि वह खाना खाकर नीलगाय भगाने के लिए खेत गया था और वही उसे नींद आ गई थी. बताया जा रहा है कि पाकिस्तान से आए बुधराम के परिवार में दो बेटे औऱ चार बेटियां थी.दोनों भाई राम रवि की शादी जोधपुर में एक ही परिवार में हुई थी. उसी परिवार में दो बहनों का भी ब्याह किया गया था. एक बहन घर के पास में ही रहथी थी. दोनों परिवारों के बीच पारिवारिक क्लेश काफी दिन से चल रहा था इसी वजह से एक बेटा रवि वापस पाकिस्तान लौट गया था.पारिवारिक क्लेश की वजह परिवार के लोगों के मौत का कारण बनी है. झगड़े का मुख्य कारण गरीबी था.कुछ दिनों से दोनों परिवार जादू टोना टोटका के चक्कर में भी फंसा हुआ था.

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here