पटना में आज जदयू कार्यकर्ता सम्मेलन के लिए बना भोजन फेंकना पड़ा,,खाने वाले कम आये। इसे जरूरतमंदों के बीच बांट दिया जाता तो सदुपयोग हो जाता।

राजधानी में 1 मार्च को गांधी मैदान में जेडीयू का राज्य स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन था। जिसके लिए जदयू नेता विधायक मंत्रियों के यहां तैयारी काफी जोरों से चल रही थी। 1 दिन पहले सभी नेता अपने कार्यकर्ताओं को लेकर पटना पहुंच चुके थे और उनके रहने खाने की व्यवस्था अपने आवास पर की गई थी। कार्यक्रम में लाखों लोगों के पहुंचने की उम्मीद जताई जा रही थी। लेकिन कार्यकर्ता कम संख्या में पहुंचे और भारी मात्रा में खाने की बर्बादी हुई।

गांधी मैदान में सीएम नीतीश कुमार के संबोधन के दौरान काफी जगह खाली दिखाई पड़ी। बहुत कम संख्या में कार्यकर्ता दिखे। कार्यक्रम में कार्यकर्ता कम संख्या में पहुंचे और इसी का परिणाम कई विधायक और मंत्रियों के यहां देखने को मिला। जहां विधायकों और मंत्रियों ने अपने उम्मीद के मुताबिक कार्यकर्ताओं के लिए भोजन तैयार करवाया। लेकिन कार्यकर्ता कम संख्या में पहुंचे जिस वजह से भारी मात्रा में खाना बर्बाद हो गया। विधायक आवास के 500 के मीटर के दायरे में बस्तियां हैं। लेकिन किसी ने भी यह कोशिश नहीं की कि खाने को बर्बाद होने से पहले स्लम में बांट दिया जाए।

विदित हो कि एक दशक के दौरान यह दूसरा मौका है जब नीतीश कुमार ने एक मार्च काे अपने जन्‍मदिन के अवसर पर पार्टी कार्यकर्ताओं का सम्मेलन आयोजित किया। इससे पहले 2015 में भी एक मार्च को जेडीयू का कार्यकर्ता सम्‍मेलन हुआ था। ‘2020 फिर से नीतीश’ के नारे के साथ आयोजित रविवार के सम्‍मेलन में दो लाख कार्यकर्ताओं के आने का अनुमान लगाया जा रहा है।सम्‍मेलन को संबोधित करते हुए मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि ठीक पांच साल पहले इसी गांधी मैदान में कार्यकर्ता सम्‍मेलन हुआ था। उन्‍होंने कहा कि आगामी चुनाव में सबों की अहम भूमिका होगी। पार्टी की सभी कमेटियां काम करेंगी। उन्‍होंने सांसद बैद्यनाथ प्रसाद के नि/धन पर शोक भी प्रकट किया।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here