DESK : देश में एक तरफ कोरोना का कहर जारी है तो वहीं दूसरी तरफ 6 महीने से अधिक तक चले लॉकडाउन ने देश की अर्थव्यवस्था की कमर ही तोड़ दी है. करोड़ों लोग बेरोजगार हो गए, जीडीपी माइनस 23 पहुंच गई. जिसका असर हर क्षेत्र पर पड़ा है

इसका असर टीवी इंडस्ट्री पर भी पड़ा है.इसका अंदाजा आप इस से लगा सकते हैं कि बालिका वधु, कुछ तो लोग कहेंगे जैसे मशहूर टीवी सीरियल के डायरेक्टर रामवृक्ष गौड़ परिवार का पेट पालने के लिए सब्जी बेच रहे हैं.

आजमगढ़ जिले के निजामाबाद कस्बे के फरहाबाद निवासी रामवृक्ष 2002 में अपने मित्र साहित्यकार शाहनवाज खान की मदद से मुंबई पहुंचे थे. इन्होंने फिल्म इंडस्ट्री में खुद को स्थापित करने के लिए काफी मेहनत की. पहले लाइट विभाग में काम किया,

इसके बाद टीवी प्रोडक्शन में भाग्य आजमाया. धीरे-धीरे अनुभव बढ़ा तो निर्देशन में अवसर मिल गया. निर्देशन का काम रामवृक्ष को पसंद आ गया और उन्होंने इसी क्षेत्र में ही अपना कैरियर बनाने का फैसला कर लिया.

Get Today’s City News Updates

पहले कई सीरियल के प्रोडक्शन में बतौर सहायक निर्देशक काम किये फिर एपिसोड डायरेक्टर, यूनिट डायरेक्टर का काम किया, इसके बाद इन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. बालिका वधु, में बतौर यूनिट डायरेक्टर इन्होंने काम किया, इसके बाद इस प्यार को क्या नाम दूं, कुछ तो लोग कहेंगे,

हमार सौतन हमार सहेली, झटपट चटपट, सलाम जिंदगी, हमारी देवरानी, थोड़ी खुशी थोड़ा गम, पूरब पश्चिम, जूनियर जी जैसे धारावाहिकों में भी काम किया. लेकिन अभी हालत ये है कि वे अपना परिवार चलाने के लिए सब्जी बेच रहे हैं.

उनके पास एक भोजपुरी और एक हिन्दी फिल्म का काम है, लेकिन कोरोना संक्रमण के चलते हुए लॉकडाउन की वजह से यह प्रोजेक्ट अटके हुए हैं. रामवृक्ष का मुंबई में अपना मकान है, लेकिन दो साल पहले बीमारी के कारण उनका परिवार घर आ गया था.कुछ दिन पूर्व एक फिल्म की रेकी के लिए वे आजमगढ़ आए.

वे काम कर ही रहे थे कि कोरोना संक्रमण के चलते लॉकडाउन लग गया. इसके बाद उनकी वापसी संभव नहीं हो पाई. काम बंद हुआ तो आर्थिक संकट खड़ा हो गया. जिसके बाद उन्होंने अपने पिता के कारोबार को अपनाने का फैसला किया और आजमगढ़ शहर के हरबंशपुर में डीएम आवास के पास सड़क के किनारे ठेले पर सब्जी बेचने लगे.जिससे उनका घर आसानी से चल जा रहा है. वे अपने काम से संतुष्ट हैं.

Immediately Receive Daily CG Newspaper Updates

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here