DESK : बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत की जांच सीबीआई करेगी या मुंबई पुलिस इस पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया है. मंगलवार को महाराष्ट्र सरकार की ओर से वकील मनु सिंधवी ने कहा कि इस केस में हर कोई वकील और जज बन गया है. कोई कह रहा है आत्महत्या है और कोई हत्या.

जस्टिस ऋषिकेश राय की पीठ ने रिया चक्रवर्ती, बिहार सरकार और सुशांत के पिता की भी दलीलें सुनी. सुशांत के पिता के वकील ने कहा कि कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में इस मामले में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के बेटे का भी नाम आ रहा है. वास्तव में सुशांत को परिवार से दूर किया जा रहा था. सुशांत के परिवार के वकील ने इसके कई उदाहरण भी दिए.

उन्होंने कहा कि पिता ने बार-बार पूछा कि मेरे बेटे का क्या इलाज हो रहा है मुझे वहां आने दो लेकिन कोई जवाब नहीं मिला. इस मामले में कई पहलू ऐसे हैं जिनकी जांच की जानी जरूरी है. सुशांत के गले पर निशान बेल्ट के थे. सुशांत की बॉडी को किसी ने पंखे से लटका हुआ नहीं देखा. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सुशांत के पिता को अपने बेटे से बात करने के लिए भी गिड़गिड़ाना पड़ता था. रिया के सामने मिन्नत करनी पड़ती थी. बता दें कि 14 जून को सुशांत सिंह राजपूत अपने फ्लैट में मृत पाए गए थे. 8 जून को उनकी गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती और उनका बहुत झगड़ा हुआ था, उनके बीच मारपीट भी हुई थी. जिसके बाद रिया उनका फ्लैट छोड़कर चली गई थी. इस दौरान रिया ने उनका नंबर ब्लॉक भी कर दिया था. इन 5 दिनों में रिया ने सुशांत से कोई बात नहीं की वहीं निर्माता महेश भट्ट से 16 बार बात की.

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here