कानपुर के बिल्हौर में शर्मसार करने वाली घटना सामने आई है. एक 7 वर्षीय बच्ची को पड़ोसी ने खेत में बेर तोड़ने से मना किया. मासूम बच्ची को बेर पंसद थे इसलिए फिर भी उसने मना करने पर भी बेर तोड़े थे.  इससे नाराज सत्यम ने बच्ची को पहले मारा फिर उसको वहीं बने एक सूखे अंधे कुएं में फेंक दिया.

दूसरी तरफ बच्ची के पिता और गांव वाले पुलिस के साथ 2 दिन तक बच्ची को ढूंढ़ते रहे. जब मामले का खुलासा हुआ तो लोगों के होश उड़ गए. बच्ची लगभग 20 फीट गहरे अंधेरे कुएं में दो दिन तक रोती, चिल्लाती पड़ी रही. भूखी प्यासी बच्ची की बात सुनने वाला कोई नहीं था. इस दर्दनाक एहसास में बच्ची दो दिन तक बिलखती रही.

बच्ची को मार पीट कर कुएं में फेका

जानकारी के मुताबिक मासूम बच्ची के रविवार को बेर तोड़ने से नाराज पड़ोसी सत्यम ने पहले मासूम को मारा फिर गहरे कुएं में फेंक दिया. कुएं के ऊपर लकड़ी का पटरा रखकर ढक भी दिया. वहीं, आरोपी सत्यम बच्ची को फेंकने के बाद पुलिस और घरवालों के साथ खोजने में लगा रहा. दो दिन तक पुलिस ने गांव के घर-घर की तलाशी ली.

परिजन के साथ बच्ची को खोज रहा था आरोपी

सत्यम भी पुलिस और घरवालों के साथ बच्ची को खोजने में लगा रहा लेकिन बच्ची के बारे में भनक नहीं लगने दी. 2 दिन तक बच्ची भूखी प्यासी गहरे कुएं में तड़पती रही. ये कुआ कई सालों से सूखा था. सत्यम ने जल्लाद की तरह बच्ची को फेंकने के बाद कुएं को पटरा से बंद कर दिया. इसलिए किसी को शक भी नहीं हुआ लेकिन जब 2 दिन तक बच्ची नहीं मिली तो मंगलवार को पुलिस की निगाह कुएं पर गई.

आरोपी सत्यम हुआ अरेस्ट

एक पुलिसकर्मी ने कुएं का पटरा हटाकर एक कंकड़ फेंके तो नीचे से बच्ची के रोने की आवाज आई. बस इसके बाद तुरंत एक सिपाही ने कुएं में नीचे जाकर रस्सी से बच्ची को बाहर निकाला. इस दौरान काफी लोग मौजूद थे. कुएं से निकालने के बाद घायल बच्ची को हॉस्पिटल में भर्ती कराया. पुलिस ने आरोपी सत्यम के खिलाफ 307 के साथ पॉक्सो का केस भी दर्ज किया है. साथ ही सत्यम को गिरफ्तार कर लिया है.

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here