भारतीय वैज्ञानिकों के लिए को/रोना अब अबूझ पहेली नहीं रहा। हर दिन उनकी ओर से को/रोना को हराने की दिशा में कुछ न कुछ नई खबर आ रही है। अब वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआइआर) से एक अच्छी खबर आई है। इसके दिल्ली स्थित इंस्टीट्यूट ऑफ जीनोमिक्स एंड इंटीग्रेटिव बायोलॉजी (आइजीआइबी) ने को/रोना की जांच के लिए एक ऐसी पेपर किट विकसित की है, जिसकी लागत पांच सौ रुपये से भी कम है। इससे एक घंटे से भी कम समय में जांच हो जाती है। यह पेपर किट मौजूदा समय में प्रेगनेंसी की जांच में इस्तेमाल होने वाली यूज एंड थ्रो किट जैसी ही है।

आइजीआइबी के डायरेक्टर डॉक्टर अनुराग अग्रवाल के मुताबिक उनकी टीम ने अपनी लैब में यह किट तैयार कर ली है। इसे टेस्टिंग और औद्योगिक उत्पादन की मंजूरी के लिए आइसीएमआर के पास भेजा गया है। इस किट के जरिये आम पैथोलॉजी में भी को/रोना की जांच हो सकेगी। मौजूदा समय में को/रोना की जांच के लिए महंगी रीयल टाइम पीसीआर मशीनों की जरूरत होती है, जिनकी कीमत 10 लाख रुपये से ज्यादा है।

Loading...

जांच के बाद आसानी से नष्ट की जा सकती है जांच किट

डॉ. अग्रवाल के मुताबिक इसकी लागत 500 रुपये से भी कम है। इसे आसानी से नष्ट भी किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि इस पूरी योजना में सबसे अहम ऐसी किट विकसित करना था, जिसे आसानी से नष्ट भी किया जा सके, ताकि उसके संपर्क में आकर किसी के संक्रमित होने का खतरा नहीं रहे। यह पेपर किट है। पानी में कुछ देर रखने पर यह खुद ही नष्ट हो जाएगी।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here