औरंगाबाद. महाराष्ट्र में कोरोना से रोजाना सैंकड़ों की संख्या की संख्या में लोगों की मौत हो रही है. ऐसे में अंतिम संस्कार के लिए मुश्किले भी उत्पन्न हो रही है. बीड जिले में कोविड-19 से जान गंवाने वाले आठ लोगों का अंतिम संस्कार एक ही चिता पर कर दिया गया. इस संबंध में एक अधिकारी ने बुधवार को कहा कि एक अस्थायी शवदाह गृह में जगह की कमी के चलते ऐसा किया गया.

अधिकारी ने कहा कि क्योंकि अंबाजोगई नगर के शवदाहगृहों में संबंधित लोगों का अंतिम संस्कार किए जाने का स्थानीय निवासियों ने विरोध किया था, इसलिए स्थानीय अधिकारियों को अंत्येष्टि के लिए दूसरी जगह ढूंढ़नी पड़ी जहां जगह कम थी.

अंतिम संस्कार के लिए स्थानीय का विरोध

अंबाजोगई नगर परिषद के प्रमुख अशोक साबले ने पीटीआई-भाषा को बताया, ‘‘वर्तमान में हमारे पास जो शवदाहगृह है, वहां संबंधित मृतकों का अंतिम संस्कार किए जाने का स्थानीय लोगों ने विरोध किया, इसलिए हमें नगर से दो किलोमीटर दूर मांडवा मार्ग पर एक अन्य स्थान ढूंढ़ना पड़ा.’’ उन्होंने कहा कि इस नए अस्थायी अंत्येष्टि गृह में जगह की कमी है.

ये भी पढ़ेंः कोरोना से महाराष्ट्र में बदतर हो रहे हालात, वापस बिहार लौटने वाले लोगों के लिये चलेगी ये स्पेशल ट्रेन

अधिकारी ने बताया, ‘‘इसलिए, मंगलवार को हमने एक बड़ी चिता बनाई और इस पर आठ शवों का अंतिम संस्कार कर दिया. यह बड़ी चिता थी और शवों को एक-दूसरे से एक निश्चित दूरी पर रखा गया था.’’ उन्होंने कहा कि चूंकि कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी से फैल रहा है और इसके चलते मौत का आंकड़ा बढ़ने की आशंका है, इसलिए अस्थायी शवदाह गृह को विस्तारित करने तथा मानसून शुरू होने से पहले इसे वाटरप्रूफ बनाए जाने की योजना तैयार की जा रही है.

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here