spot_img
Tuesday, August 16, 2022
spot_img
Homegulfआज 4 जुलाई की अरब देशों की 10 बड़ी खबरें जानिए विस्तार...

आज 4 जुलाई की अरब देशों की 10 बड़ी खबरें जानिए विस्तार से !

-

1. इस अरब देश ने फिर से लागू किया यात्रियों पर Quarantine का नियम !

कुवैत में एक बार फिर से कोरोना का खतरा मंडरा रहा है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने संक्रमण बढ़ने के चलते अपने निवासियों और सभी प्रवासियों को सावधानी बरतने और सचेत रहने को कहा है. मंत्रालय ने कहा है कि एप्प के द्वारा पॉजिटिव केस पर नजर रखी जा रही है.

लग गए दुबारा से सख्त नियम, सभी को करना होगा पालन

बता दे कि देश में कोरोना के कुछ ज़रूरी नियम दुबारा से लागू किये जा रहे हैं और अगर कोई व्यक्ति इस नियम को तोड़ने की कोशिश भी करता है तो ये लापरवाही बर्दाश्त बिलकुल नहीं की जायेगी। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि ‘Shlonik’ app के बजाए Immune app के द्वारा पॉजिटिव केस पर नजर रखी जा रही है.

जानिए कितने दिनों के लिए रहना होगा अलग-थलग

अगर कोई भी व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिलता है तो उसे 5 दिन के लिए अपने आप को सबसे दूर रखना होगा। यानी कि सभी isolated हो जाना है. इसके अलावा पांच दिन के लिए फेस मास्क लगाना भी जरूरी होगा। शनिवार को हुए प्रेस स्टेटमेंट में मंत्रालय ने साफ कर दिया है कि कोरोना संक्रमित होने के बाद आसानी से पता चल जाएगा क्योंकि जो भी व्यक्ति कोरोना संक्रमित होगा, app पर उसका स्टेटस अपने आप रेड हो जायेगा.

isolated
isolated

2. हज तीर्थयात्री तुरंत जानें, मंत्रालय ने नमाज़ अदा करने पर लगाया एक और नया नियम

सऊदी अरब में, प्रशासन ने मस्जिद अल-नबावी रोज़ा शरीफा (रियाद अल-जन्नाह) में नमाज़ अदा करने का एक नया तरीका लागू किया है, ताकि आने वाले हज के समय हज तीर्थयात्रियों को नमाज़ अदा करने में कोई दिक्कत न हो. बता दे कि मस्जिद नबवी के प्रशासन ने रोजा शरीफा में नमाज की अवधि 7 मिनट तय की है.

पहली बार तीर्थयात्रियों को गेट नंबर 37 के ज़रिये दक्षिणी तरफ के आंगन से समूहों में भेजा जा रहा है. व्यवस्थापक केवल शरण चाहने वालों को उन समूहों में जोड़ते हैं जिनके पास परमिट होता है. बारकोड जांच की अनुमति है। एक समूह में 650 लोग होते हैं और किसी भी ग्रुप को सात मिनट से अधिक का समय नहीं दिया जाता है. प्रशासन के तहत तीर्थयात्रियों के समूह को संगठित करने वाले संगठन के प्रभारी यासिर अल-मज़िनी ने कहा कि मस्जिद नबावी रोज़ा शरीफा में केवल सात मिनट की अनुमति है.

रोजा शरीफा में हर दिन 11,520 लोगों को एक हफ्ते में 79,950 और एक महीने में 292,464 और 3 महीने के दौरान 689,711 लोगों को नमाज अदा करने का मौका दिया जा रहा है. ज़ियारत के लिए अलग-अलग समय हैं। रात साढ़े 12 बजे से फज्र की अज़ान से क़ब्ल 4 बजे तक, दूसरी अवधि सुबह 11:30 बजे शुरू होती है और दोपहर 3:30 बजे तक चलती है. तीसरी अवधि शाम 4.30 बजे से मग़रिब अज़ान के 7 बजे तक है, जबकि चौथी और अंतिम अवधि शाम 7.30 से 8.30 बजे तक है.

al nabvi
al nabvi

3. सऊदी के अबशर प्लेटफार्म का बड़ा बयान, अब दूसरी नियुक्ति होगी 30 दिन बाद !

सऊदी आंतरिक मंत्रालय का डिजिटल सिस्टम अबशर प्लेटफार्म का कहना है कि दूसरी नियुक्ति पिछली नियुक्ति के 30 दिन बाद की जा सकती हैं. अबशेर पोर्टल का कहना है कि पासपोर्ट विभाग, लाइसेंसिंग विभाग, निर्वासन केंद्र, तारहील, यातायात पुलिस और अन्य सरकारी एजेंसियों से संपर्क करने के लिए अपॉइंटमेंट लेना ज़रूरी है.

नियुक्ति पाने के लिए अबशर पोर्टल पर संबंधित संस्थान का चयन कर वांछित दिन और समय निर्धारित किया जाना चाहिए। नियुक्ति नियत समय पर की जानी चाहिए. जानकारी दे दे कि आपको अपॉइंटमेंट का एक प्रिंटआउट भी लाना होगा.

4. अब अमीरात के प्रवासियों या निवासियों की खो जाए नौकरी तो घबराएं नहीं ! आ गया नया

संयुक्त अरब अमीरात में बहुत से ऐसे कामगार हैं जो अपनी नौकरी खो देने से बहुत डरते हैं और उसके चलते परेशान भी होते हैं. कभी कभी तो ऐसा होता है कि बिना किसी गलती के उन्हें नौकरी से निकाल दिया जाता है. जिससे वे डिप्रेस्शन का शिकार हो जाया करते हैं. मगर अब इससे निजात मिलेगा, क्यूंकि ऐसे मामलों के लिए अब कानून लागू हो गए हैं.

इस कानून के तहत काम कार्ड की रक्षा करते हैं लेकिन संयुक्त अरब अमीरात में एक नए इंश्योरेंस स्कीम की घोषणा की गई है जिससे कामगारों को फायदा होगा। दरअसल सोमवार को UAE Vice-President ने ट्विटर के माध्यम से बताया है कि unemployment insurance scheme के जरिए कुछ समय तक उन कामगारों को सुविधा दी जाएगी जिन्होंने अचानक से अपनी नौकरी खो दी है.

बता दे कि इंश्योरेंस पैकेज के ज़रिये यह सुविधा दी जाएगी। इस सुविधा का लाभ कुछ समय तक ही कामगार को दिया जाएगा जब तक कि वह दूसरा काम ढूंढ नहीं लेता है. अब उन कामगारों को ज़्यादा चिंतित होने की ज़रूरत नहीं है क्यूंकि फैसला उनके पक्ष में लिया गया है.

naukri
naukri

5. क्या Visit Visa पर आने वाले बच्चों का बन सकता है रेजीडेंसी Visa !

सऊदी अरब के रेजीडेंसी कानूनों के अनुसार, सऊदी में रहने वाले विदेशियों के लिए रेजिडेंसी वीज़ा का होना अनिवार्य है. लाखों उमराह तीर्थयात्री और तीर्थयात्री सालाना यहां पहुंचते रहते है. इसके अलावा, विदेशी कामगारों के पास अपने परिवारों को विजिट वीजा जारी करने की सुविधा है, लेकिन कुछ नियम हैं जिनका पालन किया जाना चाहिए.

एक व्यक्ति ने इकामा को लेकर सवाल पुछा कि “दो बच्चों को वीजा पर देश में आमंत्रित किया गया है, यानी कि विज़िट वीज़ा पर आये बच्चे अपने माता-पिता के साथ रह सकते हैं जबकि माता पिता के पास इकामा है ?

इस सवाल का जवाब में कहा कि “अगर बच्चों के माता-पिता रेजीडेंसी पर हैं तो बच्चों के विजिट वीजा को रेजीडेंसी में बदला जा सकता है, बशर्ते कि बच्चे 18 साल से कम उम्र के हों. देश में आव्रजन कानून के अनुसार, जो लोग यात्रा या उमराह वीजा पर आते हैं, उन्हें निवास परमिट जारी नहीं किया जाता है, लेकिन कुछ मामलों में यह संभव है।”

लोगों को मानवीय करुणा के आधार पर बहुत सारी सुविधाएं दी जाती हैं

परमिट में कहा गया है कि जिन बच्चों के माता-पिता कानूनी रूप से देश में रह रहे हैं और 18 साल से कम उम्र के हैं, उनके वीजा को संबंधित संस्थान में आवेदन करने पर निवास में बदल दिया जाएगा। उनकी स्थिति कानूनी हो जाएगी। याद रखें कि सऊदी अरब में लोगों को मानवीय करुणा के आधार पर बहुत सारी सुविधाएं दी जाती हैं, खासकर निवास के कानून के संबंध में.

6. अब 12 साल से कम उम्र के बच्चों पर भी Finger Prints लगाना हुआ अनिवार्य !

सऊदी अरब के पासपोर्ट विभाग ने अब एक नया नियम जारी कर दिया है जिसे मानना सभी माता पिता के लिए अनिवार्य है. जी हाँ जवाज़ात ने कहा कि “12 साल और उससे अधिक उम्र के बच्चों के लिए पासपोर्ट जारी करने और उसके renewal के लिए उनके Finger Prints अनिवार्य हैं.

पासपोर्ट विभाग ने स्थानीय लोगों से कहा है कि अगर वे 12 साल या उससे अधिक उम्र के बच्चों के लिए नया पासपोर्ट बनवाना चाहते हैं या अपने पास मौजूद पासपोर्ट को extend करना चाहते हैं तो उन्हें अपनी finger prints देनी होगी. राष्ट्रीय पहचान पत्र यानी पासपोर्ट जारी करने के लिए कृपया अहवाल मदनिया के कार्यालय में संपर्क करें. इसके लिए उन्हें पहले से समय निकालना होगा.

पासपोर्ट विभाग ने एक बयान में कहा कि ”ऑनलाइन प्रोसेसिंग का फायदा उठाया जा सकता है. अबशर प्लेटफॉर्म के जरिए ऑनलाइन कार्रवाई की जा रही है। इसका उपयोग नए पासपोर्ट जारी करने और पुराने पासपोर्ट का विस्तार करने के लिए भी किया जा सकता है. सिब्बल के माध्यम से राष्ट्रीय पते पर नए पासपोर्ट और renewal पासपोर्ट का आदेश दिया जा सकता है.

finger prints
finger prints

7. आज से सऊदी अरब में नया नियम लागू ! बिना अनुमति के कोई भी नहीं जा सकता, लगी रोक

सऊदी यातायात विभाग ने कहा है कि सोमवार से बिना परमिट के वाहनों को दरगाह यानी कि मक्का सहित मुशायर मुकदसा में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। केवल उन्हीं वाहनों को जाने की अनुमति मिलेगी जिनके मालिकों के पास संबंधित प्राधिकरण से परमिट है.

यातायात विभाग ने कहा कि मक्का सहित मुशायर मुकदसा की ओर जाने वाले सभी मार्गों पर चौकियां हैं. बिना परमिट के प्रवेश करने की कोशिश करने वाले किसी भी व्यक्ति पर 10,000 रियाल का जुर्माना लगाया जा सकता है. व्यक्ति के लाइसेंस के अलावा, वाहन का भी लाइसेंस होना चाहिए।

8. आज 4 जुलाई को सऊदी से भारत भेजिए पैसा ! मिला रहा है अच्छा एक्सचेंज रेट, जानिए

सऊदी अरब में विभिन्न लेनदेन केंद्रों के अनुसार, आज 4 जून ताज़ा सऊदी रियाल की एक्सचेंज रेट जारी हुआ है.जिसे जानना प्रवासी और विदेशी भारतीयों या पाकिस्तानियों के लिए अनिवार्य है. पाकिस्तान, भारत को प्रेषण के लिए रियाल दर, लेनदेन केंद्र का नाम और शुल्क के साथ लेनदेन fees पर मूल्य वर्धित कर (VAT) जारी किया गया है.

इंडिया के लिए नया एक्सचेंज रेट

तत्काल (बैंक अल जज़ीरा) : 20 रुपये 55 पैसे, फीस : 10 रियाल
एसटीसी वेतन : 20 रुपये 64 पैसे, फीस : 17.25 रियाल
अल-राझी ट्रांसफर (अल-राझी बैंक) : 20 रुपये 83 पैसे, फीस : 20 रियाल
वेस्टर्न यूनियन (भेजें) : 20 रुपये 75 पैसे, फीस 17.25 रियाल
पैसा चना : 20 रुपये 71 पैसे, फीस : 23 रियाल
अंजाज़ बैंक (बैंक ऑफ द कंट्री) : 20 रुपये 78 पैसे, फीस : 15 रियाल

exchange rate
exchange rate

9. माशा अल्लाह ! मक्का मदीना की सबसे पहली खींची गयी रंगीन फोटो हुई जारी ! आप भी देखिये

किंग अब्दुल अजीज संग्रहालय ने ग्रैंड मस्जिद की पहली रंगीन तस्वीर जारी की है। संग्रहालय ने कहा कि ” हरम शरीफ की पहली रंगीन तस्वीर 1952 में ली गई थी” और वो “ऐतिहासिक छवि” अमेरिकन नेशनल ज्योग्राफिक पत्रिका में प्रकाशित हुई थी और तस्वीर ऐसे समय में जारी की गई है जब दुनिया भर से तीर्थयात्रियों को दुनिया के सबसे पवित्र जगह मक्का में खींच रहा है.

10. खुशखबरी : 1 जुलाई से पहले खरीदे गए एयरलाइन टिकटों पर नहीं लगेगा फीस ! हुकूमत ने लगा दी रोक

पाकिस्तान सरकार ने अपने एयरलाइन्स को निर्देश देते हुए कहा कि अंतरराष्ट्रीय यात्रियों पर 50,000 रुपये का federal excise duty पर रोक लगा दिया जाये और एरोक केवल उन्ही पर लगेगी जिन्होंने 1 जुलाई से पहले अपने टिकट खरीदे हैं. फेडरल बोर्ड ऑफ रेवेन्यू (FBR) ने खुलासा करते हुए कहा कि नया federal excise duty 1 जुलाई, 2022 से पहले खरीदे गए अंतरराष्ट्रीय हवाई टिकटों पर लागू नहीं होगा.

फेडरल बोर्ड ऑफ रेवेन्यू (FBR) का कहना है कि वित्त विधेयक 2022 के तहत क्लब, बिजनेस और प्रथम श्रेणी के अंतरराष्ट्रीय हवाई टिकटों पर संघीय उत्पाद शुल्क को 10,000 रुपये से बढ़ाकर 50,000 रुपये कर दिया गया है। federal excise duty नियम 2005 के नियम 41ए की उप-धारा आठ के तहत, अंतरराष्ट्रीय हवाई टिकट जारी करते समय federal excise duty लगाया जाता है. कुछ यात्रियों ने शिकायत की थी कि 1 और 2 जुलाई को हवाईअड्डे पर पहुंचने पर उनके टिकट पर अतिरिक्त 50,000 रुपये का शुल्क लिया गया था और कहा गया था कि सरकार ने इसे वित्त विधेयक के माध्यम से बढ़ाया है.

प्रधान मंत्री शाहबाज शरीफ ने हवाई अड्डे पर यात्रियों से 50,000 रुपये तक federal excise duty की वसूली पर अब रोक लगा दी है और कहा कि हवाई अड्डों पर यात्रियों का उत्पीड़न तुरंत रोका जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि तत्काल जांच कराकर कानून के तहत जिम्मेदार लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। जिन यात्रियों को परेशान किया गया है उन अधिकारी का पोस्ट छीना जाये. उन यात्रियों को रिफंड दिया जाना चाहिए जिनसे एफईडी वसूला गया है. प्रधान मंत्री के आदेशों के बाद संबंधित एयरलाइनों को 1 जुलाई से पहले जारी किए गए टिकटों पर federal excise duty की वसूली पर रोक लगा दी गयी है.

FBR
FBR

Related articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
3,439FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
spot_img

Latest posts