डेस्क. बिहार में lockdown के बीच एक बार फिर पुलिस का बर्ब’र चेहरा खुलकर सामने आया है. मामला बेगुसराय का है जहाँ बेगूसराय के चेरिया बरियारपुर थाने की पुलिस पर यह आरो’प लगा है कि एक युवक पर लॉकडाउन (Lockdown) का उल्लंघन करने का आ’रोप लगाकर पुलिस ने युवक को बड़ी बेर’हमी से पी’टा .

युवक की पिटाई के चलते आंखों की रोशनी (Eye Sight) चली गई. पीड़ित युवक ने लॉकडा’उन के उल्लं’घन की बात से इनकार करते हुए बताया कि जब वह खेत पर काम से जा रहा था तब उस दौरान पुलिस ने उसकी पि’टा’ई कर दी. पि’टाई के दौरान युवक की आंख में डंडा लग गया और उसकी आंखों की रोशनी चली गई.

मिली जानकारी के अनुसार, बेगूसराय जिले के चेरिया बरियारपुर थाना क्षेत्र के खंजापुर गांव निवासी नीरज कुमार ने चेरिया बरियारपुर थाना पुलिस पर पि’टाई करने का आ’रोप लगाया है, साथ ही इस पि’टा’ई से आंख की रोशनी चले जाने की बात कही है। दरअसल नीरज कुमार ने पुलिस पर आरो’प लगाया है कि 8 अप्रैल को वह गेहूं कटवा कर घर लौट रहा था इस दौरान चौक पर लिट्टी खरीदने रूका था तभी पुलिस ने उसकी पि’टाई कर दी.

9 अप्रैल को बेगूसराय में चिकित्सक से दिखाने के बाद चिकित्सक ने उसे आंख की रोशनी चले जाने की बात कही है. इस मामले में पीड़ि’त नीरज कुमार ने एसपी को आवेदन भेजकर न्याय की गुहार लगाई है. युवक ने सोशल मीडिया पर भी अपना दर्द बयान किया है. इस मामले में थानाध्यक्ष पल्लव कुमार का कहना है कि पुलिस को देखकर भागने के दौरान युवक को चो’ट लग गई थी. गौरतलब है कि कुछ दिन पहले भी बेगूसराय जिले के ट्रैफिक डीएसपी ने सड़क पर गाड़ी खड़ी करने के आरो’प में एक बस चालक की आंख फो’ड़ दी थी. पुलिस का यह बर्ताव बहुत निं’दनीय है. पुलिस जनता के सुरक्षा के लिए बनी है ना कि उन्हें मा’रने के लिए .

source- news18bihar

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here