बिहार: जदयू नेता का निजी कर्मी बताकर लोगों को ठगने के गोरखधंधे की जांच में कथित संलिप्तता सामने आने के बाद पुलिस ने मुंगेर के पूर्व मंत्री और उनके बेटे के खिलाफ मामला दर्ज किया गया। बमबम ने झारखंड के देवघर में एक भूखंड की खरीददारी के लिए खुद को मंत्री का पीए बताया। पुलिस अधीक्षक लिपि सिंह के अनुसार ब्रजेश उर्फ बमबम के बयान के आधार पर दो लोगों के अलावा पूर्व मंत्री नरेंद्र सिंह और उनके बेटे सुमित सिंह के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

बमबम इस गिरोह के सिलसिले में पिछले साल अगस्त में गिरफ्तार किए गए चार लोगों में एक था। पुलिस अधीक्षक ने दावा किया कि बमबम के बयान के अनुसार, इस रैकेट में शामिल लोग अपने को ललन सिंह का निजी सहायक बताते थे और नौकरी दिलाने का वादा कर लोगों को चूना लगाते थे।

फर्जी PA ब्रजेश के पास से बरामद मोबाइल का CDR खगलने से ये बात सामने आयी है। फर्जी PA ब्रजेश देवघर के रिखिया में बजरंगी मेहता से एक जमीन को लेकर 5 करोड़ का अग्रीमेंट किए हुए है। जिसमें मध्यस्ता को लेकर पूर्व मंत्री नरेन्द्र सिंह और उनके पुत्र सुमित सिंह को 1 करोड़ की रकम दी जानी थी। नरेंद्र सिंह ने 2015 में JDU छोड़ दिया था और वह जीतन राम मांझी की अगुवाई वाले हिंदुस्तान आवाम मोर्चा में शामिल हो गये थे। बाद में नरेंद्र सिंह मांझी की पार्टी से भी अलग हो गये थे और खुद अपनी पार्टी बना ली थी

कशिश न्यूज़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here