फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की संदेहास्पद मौत (Sushant Singh Rajput Death Case) मामले की सही ढंग से जांच कराए जाने की याचिका पर पटना हाईकोर्ट (Patna High Court) ने सुनवाई की. चीफ जस्टिस संजय करोल की खंडपीठ ने इस मामले में सुनवाई करते हुए एडिशनल सॉलिसिटर जनरल और एडवोकेट जनरल को स्थिति स्पष्ट करने का निर्देश दिया है. मुंबई में अंतिम वर्ष के लॉ छात्र देवेंद्र देवतादीन दुबे ने इस मामले में याचिका दाखिल की है.

पिछली सुनवाई के दौरान न्यायालय ने किसी को नोटिस जारी करने से मना कर दिया था. साथ ही न्यायालय ने यह स्पष्ट कर दिया था कि मामले की सुनवाई लंबित होने के दौरान भी विभागीय कार्रवाई पर कोई रोक नहीं लगेगी. याचिका में कहा गया है कि सीबीआई सुशांत के उनके मुंबई के बांद्रा स्थित फ्लैट में संदेहास्पद मौत की जांच कर रही है और अगर पटना हाईकोर्ट सीबीआई जांच को संतोषजनक नहीं पाती है तो कोर्ट सीबीआई के डायरेक्टर और केंद्र सरकार को निर्देश दे.

याचिका में यह अनुरोध किया गया है कि न्यायालय इस मामले की स्वयं निगरानी करे और न्यायालय में प्रगति रिपोर्ट पेश करने का आदेश दिया जाए, ताकि जांच प्रक्रिया जल्द पूरी हो और दोषियों को सजा मिल सके.

याचिकाकर्ता द्वारा अपनी याचिका में यह भी कहा गया है कि सुशांत की संदेहास्पद मौत उनके मुंबई के बांद्रा स्थित फ्लैट में हुई, लेकिन मुंबई पुलिस ने 45 दिनों तक इस मामले में केस दर्ज नहीं किया. बहुत से लोग इस संदेहास्पद मौत के मामले में संदेश संदेह के दायरे में थे, लेकिन जांच में विलंब होने से साक्ष्यों को मिटाने का भी मौका मिल गया. सुशांत सिंह राजपूत के पिता कृष्ण किशोर सिंह ने पिछले साल 25 जुलाई को पटना के राजीव नगर थाने में केस दर्ज कराया था, जिसके बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश पर यह मामला सीबीआई को सौंप दिया गया था. इस मामले में अगली सुनवाई 1 सप्ताह बाद होनी है.

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here