पटना: बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर विभिन्न पार्टियां अपनी-अपनी रणनीति पर काम कर रही है. कई पार्टियों ने बाहुबलियों को अपना उम्मीदवार बनाया है. गोपालगंज के चर्चित दिवंगत व्यवसाई रामाश्रय सिंह कुशवाहा की विधवा सुनिता सिंह को कुचायकोट से ग्रांड डेमोक्रेटिक फ्रंट से आरएलएसपी ने उम्मीदवार बनाया है.

चर्चित रामाश्रय कुशवाहा हत्याकांड से बिहार की सियासत में उथलपुथल भी आ चुका है. नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने दिवंगत बिजनसमैन रामाश्रय कुशवाहा की पत्नी को इंसाफ दिलाने का प्रण लिया था. वहीं, तेजस्वी ने उनकी पत्नी से राखी बंधवाते हुए हर कदम पर खड़ा रहने का वादा किया था. हालांकि, ना तो अब तक इंसाफ मिल सका और ना ही तेजस्वी बहन का ख्याल रख सके. ऐसे में दिवंगत रामाश्रय कुशवाहा की पत्नी को आरएलएसपी ने टिकट देकर विरोधियों के खिलाफ मास्टरस्ट्रोक खेला है.

sunita kushwaha

ये भी पढ़ेंः BJP-LJP के रिश्तों में आई दरार! चिराग पासवान ने बीजेपी के खिलाफ लिया बड़ा फैसला

बता दें कि 13 जून को रामाश्रम सिंह की उनके ही निर्माणाधीन पेट्रोल पंप पर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. वहीं, रामाश्रय कुशवाहा हत्याकांड में इंसाफ दिलाने के लिए आदोलनरत्त पत्नी का अनशन तुड़वाने उपेंद्र कुशवाहा से लेकर तेजस्वी यादव तक गोपालगंज पहुंचे थे. नेता प्रतिपक्ष ने सभी घटनाओं के पीछे जेडीयू के बाहुबली विधायक पप्पू पांडेय का हाथ बताया था. इसके बाद तेजस्वी यादव ने विधानसभा में भी इस मामले को उठाया और सीबीआई जांच की मांग की थी.

tejashwi sunita kushwaha
                                    सुनीता कुशवाहा का अनशन तुड़वाते तेजस्वी यादव (फाइल फोटो)

स्थानीय लोगों ने तेजस्वी से की थी टिकट की मांग

स्थानीय व्यवसासियों ने आरजेडी से दिवंगत रामश्रय कुशवाहा की पत्नी सुनीता कुशवाहा को टिकट देकर जेडीयू विधायक के खिलाफ मैदान में उतारने की मांग की थी. लोगों को उम्मीद थी कि तेजस्वी यादव भाई का फर्ज निभाते हुए बहन की लड़ाई में साथ लेंगे लेकिन ऐसा नहीं हो सका. ऐसे में पति के इंसाफ के लिए संघर्षरत सुनीता को उपेंद्र कुशवाहा ने अपनी पार्टी से कैंडिडेट बनाया है.

Get Today’s City News Updates

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here