मुंबई: शिवसेना अध्यक्ष और महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने शिवसेना की दशहरा पर रैली की है. इस मौके पर जीएसटी रद्द करने की मांग दूसरे राज्य के सीएम से भी की है. उन्होंने कहा कि अगर जीएसटी की प्रणाली में गलती हुई है तो पीएम नरेंद्र मोदी को गलती मानते हुए इसे रद्द करना चाहिए.

उद्धव ठाकरे ने कहा कि देश संकट में है और बीजेपी राजनीति कर रही है. देश किसी के ‘बाप की जागीर’ नहीं है. जीएसटी को रद्द कर देना चाहिए. महाराष्ट्र का जीएसटी बकाया 38000 करोड़ है जो केंद्र ने अभी तक नहीं लौटाया है. महाराष्ट्र जैसे हालात दूसरे राज्यों के भी हैं. केंद्र सरकार को अपने शब्दों को का मान रखना चाहिए. जीएसटी की प्रणाली का सबसे पहले शिवसेना ने ही विरोध किया था.

Loading...

हिंदुत्व पर शिव सेना प्रमुख ने विरोधियों को लपेटा

वहीं, राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी का नाम लिए बिना ही ठाकरे ने संघ प्रमुख मोहन भागवत के भाषण का ज़िक्र करते हुए हिंदुत्व पर सवाल उठाने वालों पर जमकर हमला बोला. उद्धव ने कहा कि शिवसेना और बालासाहब का  हिंदुत्व ‘थाली बजाने वाला’ हिंदुत्व नहीं है.

Immediately Receive Kuwait Hindi News Updates

शिवसेना को नीतीश पसंद नहीं

बिहार में चल रहे चुनाव के बीच ठाकरे के लपेटे में नीतीश कुमार भी आ गए. उन्होंने कहा कि वो मोहन भागवत को राष्ट्रपति बनाने की मांग कर चुके हैं. लेकिन तुम्हें यह शिवसेना नहीं पसंद है. पर संघ मुक्त भारत कहने वाले नीतीश कुमार तुम्हें पसंद हैं. 2014 तक नीतीश कुमार हमारे साथ थे पर 2014 में उन्होंने कहा कि उन्हें देश में सेक्युलर चेहरा चाहिए और उन्होंने गठबंधन तोड़ दिया. तो आखिर उसके बाद क्या हुआ? किसने किसे वैक्सीन दिया?

ये भी पढ़ेंः बिहार चुनाव में शत्रुघ्न सिन्हा की इंट्री, बेटे लव सिन्हा के चुनाव लड़ने पर पहली बार किया बड़ा खुलासा

सुशांत सिंह मामले में पर तोड़ी चुप्पी

महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने सुशांत मामले में पहली बार चुप्पी तोड़ी है. उन्होंने कहा कि बिहार के बेटे को न्याय दिलाने के लिए हल्ला मचाने वाले महाराष्ट्र के बेटे के चरित्र हनन में लगे है. ठाकरे ने अपने भाषण के अंत में बिहार की जनता से सोच कर मतदान करने की अपील की है.

Get Today’s City News Updates

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here