DESK : कहते हैं पूत कपूत हो सकता है पर मां कभी कुमाता नहीं हो सकती. एक ऐसा ही दिल को दहला देने वाला मामला दरभंगा से सामने आया है. यहां एक मां अपने बेटे के डर से भागकर भागलपुर पहुंची, लेकिन मां ने आज अपने बेटे की लंबी उम्र के लिए जिउतिया का व्रत रखा है. मां ने 36 घंटे का निर्जला व्रत रखा है ताकि उसका बेटा सलामत रह सके.


Get Daily City News Updates
लेकिन इन सब से बेफिक्र बेटा कट्टा लेकर मां को खोज रहा है. ताकि उसकी हत्या कर सके.अब मां ने वृंदावन के वृद्धाश्रम जाना तय किया है. दरभंगा के लादौर की रहने वाली इस अभागी मां का एक बेटा और एक बेटी छोटी सी उम्र में ही भगवान के पास चले गए. अब एकमात्र सहारा उसका बेटा है जो पहले लुधियाना और दिल्ली में काम करता था, लेकिन घर आ गया. लाॅकडाउन में जब बेटे ने राेज प्रताड़ित किया ताे घर छाेड़ कर वृद्धाश्रम जाने के लिए वहां से भाग आईं. बेटे की ज्यादतियाें के निशान उनके शरीर पर जगह-जगह नीला दाग माैजूद है.जो बिना कहे उसकी हर कहानी को बयां कर रहा है.

Immediately Receive CG News Updates
मां ने बताया कि उसने बहुत बार अपने बेटे को समझाने की कोशिश की. लेकिन बेटा बीते सात साल से कभी पैसा मांगता ताे कभी अपना तनाव इन्हें पीटकर खत्म करता. बैंक खाते में जाे भी पैसा था वह भी निकाल चुका.एक साल पहले भी मैं उसकी मार से तंग आकर भाग गई थी. फिर मुझे लगा उसे मेरी याद आती हाेगी. वह सुधर गया हाेगा. मैं वापस उसके पास आई, लेकिन अब ताे वह और उग्र हाे गया. मेरी जान के पीछे पड़ गया है. मैं व्रत कर रही हूं क्याेंकि नाै महीने उसे अपनी खून से सींचा है, तीन साल तक उसे अपना दूध पिलाकर बड़ा किया है. वह मेरा अंश है. मैं उसका बुरा नहीं चाह सकती. मैं ताे अब भी उसके साथ रहना चाहती हूं, अफसाेस कि ये संभव नहीं है. मैंने पुलिस में शिकायत नहीं की क्याेंकि वह उसे मारेंगे. मेरे पास घर छाेड़ के भागने के अलावा काेई रास्ता नहीं था. आश्रम में मैं अपनी बची हुई जिंदगी काट लूंगी.

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here