गया: मोक्ष नगरी के नाम से प्रसिद्ध गया का एक मठ काफी फेमस है. दरअसल, गया के जीबी रोड स्थित गौड़िया मठ में ठंड ने जैसे ही दस्तक दी है सभी भगवान को ऊनी वस्त्र पहनाया गया है. राधा-कृष्ण, जगणनाथ और सुभद्रा की प्रतिमा को ऊनी वस्त्र से ढका गया है.

वहीं, प्रतिमाओं के सिर पर ऊनी टोपी पहनाई गई है. जानकार बताते हैं कि श्रद्धा, आस्था और भक्ति के साथ हर साल भक्त भगवान को ठंड में ऊनी वस्त्र चढ़ाते हैं. मठ के पुजारी की मानें तो परम्परा पिछले कई वर्षों से चली आ रही है. खास बात यह है कि गर्मी के दिनों में एसी भी चलाया जाता है. वहीं, ठंड के दिनों में शाम होते ही भगवान को कम्बल और स्वेटर पहनाया जाता है.

Loading...

Immediately Receive Kuwait Hindi News Updates

गर्म दूध का लगता है भोग

गौड़िया मठ में माघ शीर्ष शुक्ल पक्ष षष्टी से भगवान का गर्म पानी से अभिषेक किया जाता है जबकि भोग के रुप में गर्म दूध चढ़ाया जाता है. मठ के मुख्य पुजारी उत्तम श्लोक दास जी महाराज का कहना है कि ऊनी वस्त्रों को कोलकाता से मंगाया जाता है. खास बात यह है कि इन वस्त्रों का निर्माण भी गौड़िया सम्प्रदाय के लोग ही करते हैं.

ये भी पढ़ेंः ढंड से ठिठुर रहे भिखारी को पुलिस अधिकारी ने दिए जूते और जैकेट, फिर अचानक लिपट कर रोने लगे….

सूर्य ढलते ही ढक दिए जाते हैं भगवान

मठ के पुजारी ने बताया कि जिस प्रकार मानव को गर्मी में गर्म और ठंडा के दिनों में ठंड लगती है, उसी प्रकार भगवान को भी ठंड और गर्मी का एहसास होता है. यहीं कारण है कि ठंड के दिनों में दिन में भगवान सिर्फ टोपी पहनते हैं और सूर्य ढलते ही उन्हें कम्बल ओढ़ाया जाता है. दूसरी तरफ गौड़िया मठ के दीवारों पर लगी विभिन्न सन्तों के फोटो को भी कपड़े से ढक दिया जाता है.

Get Daily City News Updates

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here