पटनाः आरजेडी सुप्रीमों लालू प्रसाद यादव चारा घोटाला में सजायाफ्ता होने के बाद रांची स्थित जेल में सजा काट रहे हैं. उनकी अनुपस्थिति में उनके छोटे बेटे और नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव महागठबंधन की तरफ से सीएम कैंडिडेट हैं. हालिया दिनों में तेजस्वी यादव खासे चर्चा में रहे हैं.

नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव का क्रेज युवाओं में तेजी से बढ़ा है. खासकर, 10 लाख सरकारी नौकरी की घोषणा से युवा उनकी तरफ आकर्षक हुए हैं. हालांकि, तेजस्वी यादव का क्रेज लड़कियों में भी अच्छा-खासा रहा है. इसका अंदाजा 2016 की एक घटना से लगाया जा सकता है.

Immediately Receive Kuwait Hindi News Updates

तेजस्वी ने जारी किया था नंबर

दरअसल, बिहार में महागठबंधन की सरकार में नीतीश कुमार ने उन्हें डिप्टी सीएम के अलावा पथ निर्माण का मंत्रालय सौंपा था. 2016 में ही अक्‍टूबर के महीने में उन्‍होंने सड़क न‍िर्माण संबंधी शिकायतों के लिए जनता से सीधा संवाद करना चाहा. इसके लिए उन्‍होंने अपना एक व्‍हाट्सअप नंबर सार्वजन‍िक कर दिया था. शियकात देख तेजस्वी हतप्रभ रह गए कि उसमें शिकायतों से ज्‍यादा लड़कियों के प्रपोजल आने शुरू हो गए.

  तेजस्वी यादव (फाइल फोटो)

ये भी पढ़ेंः फिर भड़के सीएम नीतीश, अपने बागी विधायक को मंच से ही दी चेतावनी-राजगीर में रह नहीं पाओगे

आरजेडी के नेताओं की मानें तो उन्‍हें 42 हजार से ज्‍यादा विवाद के प्रस्‍ताव मिले थे. सियासत में आने से पहले तेजस्वी क्रिकेट के मैदान में भी किस्मत आजमा चुके हैं. झारखंड की तरफ से रणजी खेलने वाले तेजस्वी 2008 से 2012 तक दिल्‍ली डेयरडेविल्‍स टीम का हिस्सा रह चुके हैं. पहली बार विधायक बनते ही डिप्टी सीएम की कुर्सी हासिल करने के साथ वो महज 27 वर्ष की उम्र में वह नेता प्रतिपक्ष बने जो कि एक रिकॉर्ड है.

Get Daily City News Updates

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here