पटनाः बिहार विधानसभा में आज शताब्दी समारोह का आयोजन किया गया. इस समारोह में बिहार विधानसभा अध्यक्ष, विधान परिषद के कार्यकारी सभापति अवधेश नारायण सिंह, सीएम नीतीश कुमार, डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद, डिप्टी सीएम रेणु देवी मौजूद रहीं. इस दौरान आज एक बार फिर से रेणु देवी की जुबान फिसल गई.

 रेणु देवी अपनी गलतियों की वजह से तीसरी बार चर्चा में आ गई हैं. इस बार उनसे विधानसभा के शताब्दी समारोह में भाषण के दौरान बड़ी गलती हो गई. डिप्टी सीएम रेणु देवी ने स्पीकर विजय सिन्हा की जगह नाम विजय प्रसाद श्रीवास्तव कह पुकारा. इसके अलावा नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव की गैरमौजूदगी के बावजूद उनका नाम ले लिया.

दो बार पहले भी फिसल चुका है जुबान

बता दें कि यह पहला मौका नहीं है जब रेणु देवी की जुबानी फिसली है. इससे पहले उनके सामान्य ज्ञान की जानकारी पर विपक्ष सवाल खड़ा कर चुका है. उद्योग विभाग से जुड़े एक कार्यक्रम में कुछ खबरों को लेकर सतर्कता बरतने के लिए मीडिया को सलाह दे रही थीं. इस दौरान ही रेणु देवी ने मीडिया को लोकतंत्र का तीसरा स्तंभ बता दिया था. जबकि  भारतीय संविधान में लोकतंत्र के तीन स्तंभ माने गए हैं. व्यवस्थापिका, कार्यपालिका एवं न्यायपालिका है. वहीं,मीडिया को लोकतंत्र का चौथा स्तंभ कहा जाता है.

ये भी पढ़ेंः पोर्न वीडियो बना कर सोशल मीडिया में डालती थी फेमस हिरोइन, मुंबई पुलिस ने किया गिरफ्तार

इसके अलावा डिप्टी सीएम रेणु देवी एक बार वर्ष 2020 को बीस हजार बीस कहा था. जिसका वीडियो खूब वायरल हुआ था, जब वो उप मुख्यमंत्री बनी थीं. दरअसल, रेणु देवी कहना चाहती थीं कि राजनीति में तीन दशकों से हैं. साल 1988 में वे पार्टी से जुड़ीं और आज साल 2020 तक कई पदों पर रही हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here