प्रदेश के सभी स्कूल-कॉलेज और कोचिंग संस्थान 31 मार्च तक बंद, को/रोना वा/यरस से डरने की जरूरत नहीं: नीतीश

रोटेशन के तहत दफ्तर आएंगे सरकारी कर्मचारी : बैठक में यह निर्णय लिया गया कि सरकारी दफ्तरों में रोटेशन के आधार पर कर्मियों को बुलाया जाए। अगर दस कर्मी किसी दिन आते हैं तो उन्हें अगले दिन नहीं बुलाया जाए। सरकारी दफ्तरों में कंजेशन न हो इसका ध्यान रखा जाए। मुख्य सचिव ने बताया कि सोमवार को इस बारे में अलग आदेश जारी किया जाएगा।

को/रोना वा/यरस के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए एहतियात के तौर पर सूबे के सभी सरकारी, निजी स्कूल तथा कॉलेज व कोचिंग संस्थानों को 31 मार्च तक बंद कर दिया गया है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में शुक्रवार को हुई उच्चस्तरीय बैठक में इस आशय का फैसला लिया गया। निर्णयों की जानकारी मुख्य सचिव दीपक कुमार, अपर मुख्य सचिव शिक्षा आरके महाजन, गृह आमिर सुबहानी, समाज कल्याण अतुल प्रसाद, स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार और मुख्यमंत्री के सचिव अनुपम कुमार ने एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में दी।

बिहार में अभी एक भी मामला नहीं: मुख्य सचिव ने बताया कि को/रोना वा/यरस का फिलहाल बिहार में एक भी मामला नहीं है। यहां 142 संदिग्धों को आब्जर्वेशन में रखा गया था जिनमें से 73 को घर भेज दिया गया है। शेष की जांच चल रही है। देश में कोराना वा/यरस काफी तेजी से फैलता है। इस वजह से एहतियातन कई निर्णय लिए गए हैं।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुक्रवार को कहा कि को/रोना वा/यरस को लेकर डरने की आवश्यकता नहीं है। सरकार पूरी तरह से सतर्क है। मुख्यमंत्री आवास के संकल्प कक्ष में को/रोना वा/यरस की स्थिति पर समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री ने यह बात कही। मुख्यमंत्री ने कहा कि को/रोना को ले लोगों को जागरुक किया जा रहा है। मोबाइल व अन्य संचार माध्यमों से लोगों को इसके बारे में जानकारी दी जा रही है। सरकार के स्तर पर पूरी तैयारी है और जरूरी उपाय भी किए गए हैं। बिहार में विदेश से आने वाले लोगों की पटना एवं बोधगया एयरपोर्ट पर सख्त स्क्रीनिंग की जा रही है। मुख्यमंत्री की समीक्षा बैठक में उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा, स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय, मुख्यमंत्री के परामर्शी अंजनी कुमार सिंह सहित कई महकमों के आला अधिकारी मौजूद थे।

सीबीएसई की परीक्षाएं फिलहाल जारी रहेंगी

सेंट्रल स्कूल ऑफ एजुकेशन (सीबीएसई) ने परीक्षाओं को जारी रखने का निर्देश दिया है। सीबीएसई की परीक्षाएं पूर्व के भांति आगे भी जारी रहेंगी। सीबीएसई ने फिलहाल परीक्षा प्रणाली में किसी तरह के बदलाव से इन्कार किया है। वहीं राज्य सरकार ने अपने सभी सरकारी एवं निजी स्कूलों को 31 मार्च तक बंद करने का निर्देश दिया है। इस दौरान राज्य के सभी कोचिंग संस्थान भी बंद रहेंगे। सीबीएसई के परीक्षा नियंत्रक संयम भारद्वाज का कहना है कि को/रोना को लेकर सीबीएसई की परीक्षाओं में कोई बदलाव नहीं किया गया है। स्कूलों में को/रोना के मद्देनजर विशेष सावधानी बरतने का निर्देश स्कूलों को दिया गया है।

जहां कहीं सरकार के अधीन चलने वाले कॉलेज व विश्वविद्यालयों में परीक्षाएं इस महीने में शिड्यूल है उन्हें भी स्थगित किया जाएगा। सरकारी स्कूलों के साथ-साथ सूबे के सभी निजी स्कूल व कोचिंग संस्थान भी 31 मार्च तक बंद रहेंगे। शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव महाजन ने कहा कि स्कूल बच्चों के लिए बंद किए गए हैं। शिक्षकों को स्कूल आना है। सीबीएसई व आइसीएसई बोर्ड की चल रही परीक्षाओं के संबंध में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि इस बारे में संबंधित बोर्ड को निर्णय लेना है।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here