पटना : गलत जीवनशैली के कारण प्रदेश में किडनी रोगियों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। इसे देखते हुए सरकार राज्य के सबसे बड़े मेडिकल कॉलेज सह अस्पताल में इलाज से लेकर प्रत्यारोपण तक की निश्शुल्क व्यवस्था कर रही है। स्वास्थ्य विभाग ने जुलाई से यहां किडनी प्रत्यारोपण शुरू करने के निर्देश दिए हैं।

पीएमसीएच प्राचार्य डॉ. विद्यापति चौधरी ने बताया कि हाइलेवल कमेटी के निरीक्षण के बाद राजेंद्र सर्जिकल ब्लॉक में किडनी प्रत्यारोपण के लिए आठ करोड़ रुपये से बन रहा ब्लॉक अप्रैल तक पूरा हो जाएगा। बीएमएसआइसीएल जून तक सभी आधारभूत संसाधनों यथा दो टेबल वाले माड्यूलर ऑपरेशन थिएटर, टिश्यू मैचिंग के लिए पैथालॉजी में सुविधा आदि मुहैया करा देगा। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग 88 विशेषज्ञ चिकित्सकों और 39 प्रशिक्षित नर्सो की नियुक्ति करेगा। शुरुआती कुछ प्रत्यारोपण आइजीआइएमएस के चिकित्सकों की देखरेख में किए जाएंगे। प्रशिक्षित होने के बाद नियमित रूप से पीएमसीएच में किडनी प्रत्यारोपण शुरू हो जाएगा। यहां पर प्रत्यारोपण पूर्णत: निश्शुल्क होगा। किसी रोगी को जांच या दवा के नाम पर कुछ नहीं देना होगा।

Loading...

सालों से चल रही थी कवायद : पीएमसीएच में अलग किडनी यूनिट बनाकर पिछले दस वर्षो से प्रत्यारोपण की कवायद चल रही है। 23 अगस्त 2018 को किडनी प्रत्यारोपण विशेषज्ञ डॉ. वी. शीनू, आइजीआइएमएस के निदेशक डॉ. एनआर विश्वास और बीएमएसआइसीएल के डॉ. पवन कुमार ने ऑपरेशन थिएटर की जगह देखकर प्रत्यारोपण के लिए हरी झंडी दे दी थी। दो माह में ओटी बनाने की बात थी। उस बीच दो लोगों ने किडनी प्रत्यारोपण के लिए पंजीयन भी कराया था।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here