पटनाः बिहार विधानसभा चुनाव के लिए तीसरे और आखिरी चरण का प्रचार खत्म हो गया. इसके साथ ही बिहार में सियासी गहमागहमी भी बढ़ गई है. 15 सालों तक सियासत के केंद्र बिंदु में रहे जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार ने हमेशा की तरह ही फिर से सबको चौंका दिया है.

Immediately Receive Kuwait Hindi News Updates

बिहार के मुख्‍यमंत्री और जेडीयू के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष नीतीश कुमार ने धमदाहा में रैली के दौरान राजनीति से संन्‍यास का ऐलान कर दिया. नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार विधानसभा चुनाव 2020 मेरा अंतिम चुनाव होगा. आपको बता दें कि विधानसभा चुनाव के आखिरी चरण के मतदान के लिए चुनाव प्रचार का आज आखिरी दिन है. नीतीश कुमार ने ऐलान करते हुए कहा कि यह मेरा अंतिम चुनाव, अंत भला.. तो सब भला.

15 साल से रहे हैं सीएम फेस

बता दें कि नीतीश कुमार एनडीए गठबंधन की ओर से मुख्यमंत्री का चेहरा हैं और पिछले पंद्रह वर्षों से राज्य की गद्दी संभाल रहे हैं. एनडीए से नाता तोड़ने के बाद 2015 में नीतीश कुमार ने महागठबंधन का निर्माण कर बिहार में नरेंद्र मोदी का विजय रथ रोक दिया था. हालांकि, बाद में लालू यादव से अलग होकर फिर से बीजेपी की मदद से सत्ता में आ गए.

ये भी पढ़ेंः नीतीश कुमार ने भरी सभा में किया पॉलिटिक्स से रिटायरमेंट का ऐलान, जानिए कब लेंगे सन्यास..

विरोधियों के खिलाफ बड़ी चाल

नीतीश कुमार ने चुनावी सभा से अपने संयास के बारे में एलान कर सबको चौंका दिया है. इसे नीतीश कुमार की आखिरी चाल मानी जा रही है जिससे तेजस्वी और चिराग पासवान को पटकनी देने में मदद मिल सकती है. सियासी पंडित कह रहे है कि नीतीश इस चुनाव को आखिरी बता कर सभी की नजरें अपनी तरफ खिंच ली है. वोटर और मीडिया के बीच आखिरी चरण के वोटिंग में सियासी दाव के जरिए सहानुभूती वोट अपनी तरफ खिंच सकते हैं. नीतीश ने आखिरी सभा में खासकर, महिलाओं के लिए किए गए कामों की विस्तार से उल्लेख किया.

Get Today’s City News Updates

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here