पुरे देश को झगझोड़ देने वाली घटना निर्भया रेप केस में अब किसी भी पल कोर्ट अपना फैसला सुना सकती है। बता दे कि दिल्ली में साल 2012 में हुए बहुचर्चित निर्भया गैंगरेप केस में 4 दोषियों को आज पटियाला हाउस कोर्ट उनके फांसी की सज़ा का ऐलान कर सकती है। मिली जानकारी के अनुसार पटियाला हाउस कोर्ट में दोषियों को जल्द से जल्द फांसी देने के लिए निर्भया की मां की याचिका पर सुनवाई पूरी कर ली गई है।

उन्होंने अपनी याचिका में सभी दोषियों के खिलाफ डेथ वॉरंट जारी करने की मांग की है। दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद कोर्ट कुछ देर में अपना फैसला सुनाएगा। इससे पहले जज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चारों दोषियों से बात भी करेंगे। साथ ही दोषियों के सामने ही उनके डेथ वारंट पर फैसला सुनाया जाएगा।

Loading...

कोर्ट में मामले की सुनवाई के दौरान निर्भया की माँ और मुकेश की मां रो पड़ीं। मुकेश की मां का कहना था कि वह भी एक मां हैं, इसलिए उनकी चिंताओं का भी ध्यान रखना चाहिए। इसके बाद जज ने दोनों से चुप रहने की अपील की।

दोषियों के वकील ने कोर्ट में यह दलील दी कि वह अपने मुवक्किलों ने नहीं मिल पाए हैं। साथ ही वकील ने यह भी दावा किया कि उनके मुवक्किलों को जेल में टॉर्चर किया गया है। बचाव पक्ष के वकील ने क्यूरेटिव पिटीशन दायर करने के लिए कोर्ट से मोहलत देने की भी मांग की। दूसरी तरफ कोर्ट में सुनवाई के दौरान निर्भया के परिवार ने कोर्ट से सभी दोषियों के खिलाफ जल्द से जल्द डेथ वारंट जारी करने की मांग की। निर्भया की मां के वकील ने कोर्ट मं कहा कि किसी भी दोषी की कोई याचिका पेंडिंग में नहीं है, लिहाजा अब डेथ वारंट जारी किया जा सकता है।

मालूम हो कि ये मामला 16 दिसंबर 2012 को दिल्ली में रात को चलती बस में एक 23 साल की पैरामेडिकल स्टूडेंट के साथ 6 लोगों ने गैंगरेप किया। और बाद में उसके साथ हैवानियत की सारी हद पार की। उसके बाद दोषियों ने निर्भया को सड़क पर मरने के लिए फेक दिया।

इलाज के दौरान कुछ दिनों बाद उसकी मौत हो गई थी। इस अपराध के लिए पवन, मुकेश, अक्षय और विनय को दिल्ली हाई कोर्ट ने मौत की सजा सुनाई थी। जिसके बाद मुख्य आरोपी राम सिंह ने ट्रायल के दौरान ही तिहाड़ जेल में आत्महत्या कर ली थी, जबकि एक अन्य नाबालिग 3 साल बाल सुधार गृह में रहने के बाद छूट चुका है।

सोर्स – न्यूज़ 18

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here