मामला बिहार के बेतिया जिले का बताया जा रहा है। जब देर शाम मंगलवार को बेतियां के नगर थाने में दो लड़कियां डरी और खबर आई हुई पहुंची और पुलिस से अपनी सुरक्षा की गुहार लगाने लगी। आगे पूछताछ में लड़कियों ने अपने आप को पति पत्नी बताते हुए कहा कि उन्होंने समलैंगिक विवाह किया है। और अब वह दोनों एक दूसरे के साथ ही जीवन बिताना चाहते हैं और वह एक दूसरे के बिना जिंदा नहीं रह सकते।
Get Daily City News Updates

जानकारी के मुताबिक जब इस शादी से घरवाले नाराज हो गए और तरह-तरह की धमकियां भी देने लगे पुलिस ने कार्रवाई करते हुए पत्नी (इशरत) को उसके पति (नगमा खातून) के घर भेज दिया है।इशरत के पिता हजरत ने यह बताया कि उनका परिवार जालंधर में रहता था वहीं पड़ोस में बगहा के रामनगर की रहने वाली नगमा खातून भी रहा करती थी। इसी दौरान दोनों के बीच दोस्ती हुई।घरवालों को यह दो सामान लड़कियों के बीच दोस्ती लगी तो उनका मिलना जुलना मुश्किल नहीं था।मगर ना जाने कब यह दोस्ती परवान चढ़ने लगी और वह दोनों एक दूसरे के प्यार में डूब गए। इसके बाद दोनों ने अब शादी कर ली है। घर वालों ने काफी समझाया बुझाया मगर इन दोनों पर इसका कोई असर नहीं हुआ और नगमा और इशरत अब एक दूसरे के साथ ही रहना चाहते हैं। क्योंकि घर वाले इस रिश्ते से इंकार कर रहे थे इस विरोध को देखकर यह दोनों लड़कियां नगर के थाने पहुंच गई इसके बाद पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी।

फिलहाल तो पुलिस ने जैसे-तैसे इशरत को उनके पति नगमा के घर भेज दिया है लेकिन यह रिश्ता किस तरह आगे बढ़ता है यह वक्त बताएगा।देश की न्यायपालिका ने समलैंगिक विवाह को मान्यता तो दे दी है लेकिन ऐसा किस्सा बड़े शहरों में गिने-चुने संख्याओं में सामने आता है जब यह वाक्य बिहार के बेतिया जिले में देखने को मिला तो पुलिस के साथ-साथ लोग भी इस जोड़े पर आपत्ति जताने लगे। परिवार वालों ने इनका साथ देने से इनकार किया है और साथ ही साथ इनके रिश्ते को भी गलत मानते हैं।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here