BIHAR : कोरोना के चलते पूरी दूनिया में हहाकार मचा हुआ है. हर रोज सैंकड़ों कोरोना संक्रमित की जान जा रही है और लोग संक्रमण का शिकार हो रहे हैं. लेकिन इन सब के बाद भी कुछ लोग ऐसे हैं जो इसे हल्के में ले रहे हैं और लापरवाही से बाज नहीं आ रहा है.

एक ऐसा ही नया मामला पश्चिम चंपारण का है. जहां एक श्राद्धकर्म में  कोविड-19 से जुड़े गाइडलाइन को नजरअंदाज करते हुए सैंकड़ों लोगों को बुलाया गया था. मझौलिया थाना के परसा में हुए इस श्राद्धकर्म में शामिल होने वाले लोगों को इसका अंदाजा भी न था कि उन्हें भोज खाने का अंदाजा संक्रमण के तौर पर उठाना पड़ेगा.

खबर के अनुसार बताया गया कि परसा के रहने वाले राजकिशोर सिंह का दैहांत कुछ दिन पहले हो गया था. उनके बेटे ने  श्राद्ध का आयोजन किया पूरे गांव वाले को बुलाया. कोरोना के इस दौर में गांव वाले भी बिना सोचे-समझे इस में शामिल हुए और साथ में कोरोना भी ले गए. श्राद्ध में 200 से अधिक लोग शामिल हुए थे. जिनमें से कुछ लोगों को सर्दी जुकाम की शिकायत हुए. जिसके बाद 3 लोग जांच कराने पहुंचे और दो पॉजिटिव पाए गए. उसके बाद गांव के 6 लोग जांच कराने पहुंचे और सभी कोरोना संक्रमित पाए गए. इसके बाद गांव में हड़कंप मच गया है.मामला डीएम तक पहुंचा और अब गांव में कैंप लगाकर सभी की जांच कराई जा रही है.

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here