नीतीश कुमार ने पटना के गांधी मैदान में आयोजित जदयू कार्यकर्ता सम्मेलन के दौरान बिहार के नियोजित शिक्षकों को तोहफा दिया है. सभा को संबोधित करने के दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ऐलान करते हुए कहा कि बिहार सरकार क्षमता के अनुसार शिक्षकों के वेतन में बढ़ोतरी करेगी. उन्होंने कहा कि हमने शिक्षकों के लिए सदैव काम किया है. नियोजित शिक्षकों को जितना हमने दिया है उतना शायद ही कोई सरकार आज तक दिया होगा.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रविवार को पटना के गांधी मैदान में आयोजित जदयू कार्यकर्ता सम्मेलन में ऐलान किया कि क्षमता के अनुसार शिक्षकों का वेतन बढ़ाया जाएगा। उन्होंने कहा कि बिहार को विकसित प्रदेश बनाएंगे। उन्होंने कहा कि अगली बार मौका मिला तो हर खेत को को सिंचाई के लिए पानी दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि सात निश्चय के बाद आगे भी निश्चय होगा और उसे भी पूरा करेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि रोजगार दे रहे हैँ, उससे अधिक रोजगार के अवसर पैदा कर रहे हैं।

नीतीश ने कहा कि जब हम सत्ता में आए तब बिहार का क्या हाल था। 12.5 प्रतिशत बच्चे स्कूल नहीं जाते थे और आज यह संख्या एक प्रतिशत से भी कम रह गई है। गरीबी की वजह से छात्राएं स्कूल नहीं जा पाती थी। हमने छात्राओं के लिए पोषाक योजना शुरू की। बाद में लड़के-लड़कियों के लिए साइकिल योजना शुरू की। सीएम ने कहा कि हमने साढ़े तीन लाख शिक्षकों का नियोजन किया। शिक्षक भूल जाते हैं कि पहले क्या मिलता था। आप किसी के लिए कितना भी कर दीजिए वह और खोजता रहेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here