पटनाः बिहार विधानसभा चुनाव में एलजेपी एनडीए से अलग होकर चुनाव लड़ रही है. बीजेपी जेडीयू के बीच गठबंधन होने से बीजेपी के कई नेताओं का टिकट कट गया है. वहीं, बीजेपी के कई विधायक और सीनियर लीडर बागी होकर एलजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं. पार्टी ने नौ बागी नेताओं को दल विरोधी गतिविधियों के आरोप में सोमवार को छह साल के लिये निष्कासित कर दिया.

दरअसल, बीजेपी के ये नेता विधानसभा चुनाव में एनडीए के आधिकारिक उम्मीदवार के खिलाफ चुनाव लड़ रहे हैं. सभी नेता एलजेपी या फिर रालोसपा के टिकट पर जेडीयू और बीजेपी कैंडिडेट के खिलाफ चुनावी मैदान में ताल ठोक रहे हैं. जिससे न सिर्फ पार्टी की किरकिरी हो रही थी बल्कि बीजेपी पर सवाल भी खड़े हो रहे थे. बागी नेताओं पर कार्रवाई करने के लिए बीजेपी पर भारी दबाव बन रहा था.

Immediately Receive Kuwait Hindi News Updates

rajendra singh with chirag
        चिराग पासवान के साथ बीजेपी के बागी राजेंद्र सिंह

चुनाव लड़ने पर कार्रवाई

बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने कहा, ‘‘एनडीए के आधिकारिक उम्मीदवारों के खिलाफ चुनाव लड़ने जा रहे पार्टी नेताओं के खिलाफ कार्रवाई की गई है और इस बारे में कार्रवाई का नोटिस जारी कर दिया गया है.’’ बीजेपी अध्यक्ष के मुताबिक इस बारे में पार्टी की ओर से पहले ही राय व्यक्त की गई थी.

ये भी पढ़ेंः जेडीयू ने जारी की स्टार प्रचारकों की लिस्ट, नीतीश के करीबी मंत्री का नाम गायब

बीजेपी कई दिग्गज नेता शामिल

बता दें कि बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल के हस्ताक्षरित पत्र में नौ नेताओं को छह साल के लिये निष्कासित किया गया है. इसमें दिनारा से मंत्री जय सिंह के खिलाफ चुनावी मैदान में किस्मत आजमा रहे राजेन्द्र सिंह, नोखा से रामेश्वर चौरसिया, झाझा से वर्तमान विधायक रवीन्द्र यादव के अलावा डॉ उषा विद्यार्थी, श्वेता सिंह, इन्दु कश्यप, अनिल कुमार, मृणाल शेखर और अजय प्रताप का नाम शामिल है.

धूमिल हो रही थी बीजेपी की छवि 

पार्टी की तरफ से जारी पत्र में कहा गया है, ‘‘आप लोग एनडीए के प्रत्याशी के विरूद्ध चुनाव लड़ रहे हैं. इससे एनडीए के साथ-साथ पार्टी की छवि भी धूमिल हो रही है. आप लोगों को दल विरोधी इस कार्य के कारण पार्टी से छह साल के लिये निष्कासित किया जाता है.’’

Get Today’s City News Updates

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here