केरल के अलापूझा में हिंदू-मुस्लिम की एकता ने नई मिशाल पेश की है। जहाँ मुस्लिम समाज ने मस्जिद के भीतर एक हिंदू लड़की की शादी की मेहमानवाज़ी कर मिसाल पेश की है। यह मामला अलापूझा के चेरुवल्ली स्थित जुमा मस्जिद का है, जहां रविवार को एक हिंदू लड़की की पुरे पारंपरिक हिंदू रीति रिवाज से शादी हुई। साथ ही मस्जिद कमिटी ने शादी संपन्न होने के बाद खास भोज का भी आयोजन किया था, भोज में हिंदू-मुस्लिम दोनों समुदाय के लोग शामिल हुए। हिंदू-मुस्लिम की बीच की एकता को देख मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने खूब तारीफ की।

दरअसल, लड़की (अंजू) के पिता की एक हादसे में दो साल पहले मौ’त हो गई थी, जिसके बाद लड़की की मां बिंदु अपनी बेटी की शादी के लिए काफी परे’शान थी। घर की माली हालत ठीक नहीं होने के कारण शादी के लिए खर्चों का इंतजाम नहीं हो पा रहा था। इस बुरे हालात में बिंदु ने बेटी की शादी के लिए स्थानीय मस्जिद से आर्थिक मदद मांगी। जिसपर मस्जिद ने भी पूरी मदद का भरोसा दिया था। और अंजू की शादी 19 जनवरी को शरद से तय हुई थी।

फिर रविवार को शादी के लिए मस्जिद परिसर में फूलों की सजावट की गई। अंदर ही मंडप बनाया गया और मेहमानों के बैठने की व्यवस्था की गई थी। पूरे हिंदू रीति रिवाज के साथ अंजू और शरद की शादी संपन्न हुई। शादी के बाद मेहमानों के लिए मस्जिद परिसर में ही भोज रखा गया। सभी लोगों को शाकाहारी व्यंजन परोसे गए। इस शादी में दोनों समुदाय की तरफ से करीब एक हजार लोग शामिल हुए थे। दुल्हन को भेंट में सोने के जेवर भी गए।

चेरुवल्ली जमात कमेटी के सचिव नुजूमुद्दीन अल्लूमोटिल ने बताया कि कमेटी ने दुल्हन को सोने के 10 जेवर और 2 लाख रुपये उपहार में दिए। केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने मुस्लिम समुदाय के इस नेक काम की खूब तारीफ की। साथ ही नए जोड़े को फेसबुक पर शुभकामनाएं भी दीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here