पटना: बिहार की राजधानी पटना में अब राज्य का सबसे बड़ा परीक्षा केंद्र बनने जा रहा है। जहाँ एक साथ 25 हजार से ज्यादा परीक्षार्थी एक परिसर में बैठक परीक्षा दे सके बीएसईबी इसकी तैयारी कर रही है। परीक्षा पारदर्शी और कदाचारमुक्त हो सके इसको लेकर बीएसईबी अध्यक्ष आनंद किशोर ने बुधवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सामने पूरी रूपरेखा का प्रस्तुतीकरण दिया।

साथ ही आंनद किशोर ने बताया कि मैट्रिक,इंटर,डिप्लोमा इन एजुकेशन परीक्षा, शिक्षक पात्रता परीक्षा समेत कई परीक्षाओं का बिहार में आयोजन किया जाता है। इन परीक्षाओं को लेकर पटना जिले में कई परीक्षाकेंद्र बनाये जाते है। कई स्कूलों और कॉलेजों को परीक्षा केंद्र के रूप में लिया जाता है। जिससे शिक्षण संस्थाओं का शिक्षण एवं अन्य कार्य प्रभावित होता है। साथ ही कई तरह के समस्याओं का भी सामना करना पड़ता है। कभी-कभी तो प्रश्नपत्रों की गोपनीयता भी भंग हो जाती है। इन सभी समस्याओं को देखते हुए एक अलग हाईटेक परीक्षा केंद्र बनाने की व्यवस्था पटना में की जा रही है।

Loading...

आपको बता दे कि इस हाईटेक परिसर में ऑफ लाइन और ऑन लाइन दोनों तरह की परीक्षा ली जा सकेगी। ऑफलाइन परीक्षा के लिए 44 हॉल में 20680 परीक्षार्थियों की क्षमता और ऑनलाइन परीक्षा के लिए 20 हॉल में 4400 परीक्षार्थी के बैठने की व्यवस्था होगी। इस परिसर में कुल 25080 परीक्षार्थी एक साथ बैठकर परीक्षा दे सकेंगे।

इस पूरे परिसर, भवन, हॉल में सीसीटीवी कैमरा और जैमर की लगाए जाएंगे। सभी भवनों के सभी हॉल में वेबकॉस्टिंग की भी व्यवस्था होगी। सुरक्षा के दृष्टिकोण से 52 सिपाहियों के रहने और सर्पोटिंग स्टॉफ के आवास की भी व्यवस्था होगी। यह हाईटेक परीक्षा केंद्र महात्मा गांधी सेतू के करीब 6.79 एकड़ भूमि पर ओल्ड बाइपास के पास बनेगा। इसके लिए 5.78 एकड़ जमीन बीएसईबी को ट्रांसफर हो गया है शेष बचे 1.11 एकड़ जमीन ट्रांसफर के लिए बीएसईबी ने पटना के जिलाधिकारी को प्रस्ताव भेजा है। प्रस्ताव के मंजूरी मिलने के बाद निर्माण कार्य शुरू जायेगा।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here